Thursday, April 22, 2021
Home Education Internet Kya hai Hindi (What is Internet in Hindi)

Internet Kya hai Hindi (What is Internet in Hindi)

Internet Kya hai – अगर आप भी Internet की सारी जानकारी हिन्दी में चाहते हैं तो आप बिल्कुल सही Article पढ़ रहे हैं । इस Article में मैंने Internet के बारे में A to Z सारी जानकारियां हिन्दी में उपलब्ध करवाई है जैसे कि इंटरनेट क्या है , इंटरनेट कैसे काम करता है , इंटरनेट का मालिक कौन है , इंटरनेट की खोज किसने की ,इंटरनेट कब शुरू हुआ ,इंटरनेट की परिभाषा ,इंटरनेट की विशेषता,वर्ल्ड वाइड वेब (www) क्या है ,ईमेल क्या है इत्यादि ।

Internet Kya hai और इसका अविष्कार किसने किया। [Invention of Internet]

Internet Kya hai – इंटरनेट को नेट भी कहा जाता है। यह एक इलेक्ट्रॉनिक कम्युनिकेशन डिवाइस है। यह सबसे बड़े नेटवर्कको में से एक है। यह दुनिया भर में लाखों-करोड़ों कंप्यूटर से जुड़ा हुआ है।

इंटरनेट कई सुविधाओं को आपकी उंगलियों पर लाकर रख देता है आप इसके जरिए किसी को मैसेज भेज सकते हैं नए दोस्त बना सकते हैं बैंकिंग शॉपिंग कर सकते हैं इंटरनेट का सबसे बड़ा फायदा यह है कि अपने कंप्यूटर पर इसका इस्तेमाल आपको कहीं भी कर सकते हैं।

इंटरनेट की मदद से आप अपने दोस्त को ऑनलाइन मैसेज भेज सकते हैं यहां तक कि उससे बात भी कर सकते है इस बात का कोई मतलब नहीं है कि वह कहां बैठा हुआ है बस उसके पास कंप्यूटर और इंटरनेट कनेक्शन होना चाहिए

आज के बिजनेस वर्ल्ड में यदि सफलता पाना है तो इंटरनेट को समझना ही होगा इसके बिना आप कई सारे सुविधाओं सूचना और एक बहुत ही महत्वपूर्ण एक बहुत ही महत्वपूर्ण स्रोत को खो दंगे

अथवा

Internet Kya hai – इंटरनेट नेटवर्क का एक नेटवर्क है , सरल भाषा में कहे तो नेटवर्क का ऐसा जाल जो पूरे दुनिया में फैला हो जो एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस को दूसरे इलेक्ट्रॉनिक से तरंग (Waves) के द्वारा जोड़ती है। इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जैसे की Smartphone,Computers इत्यादि।

इंटरनेट विशव वयापिक नेटवर्क है जो संसार के सरे कम्प्यूटर्स को जोड़ता है । Internet विशव भर के लोगो को संचार करने तथा सूचनाओं तथा आक्रो का आदान प्रदा करने की अनुमति देता है । इंटरनेट की मदत से आप कोई सुचना या सन्देश सेकंडों में दुनिया भर में कही भी भेज सकते है ।

इंटरनेट का बीज तो सन 1969 में ही लगा दी गई थी,जब U.S के डिफेन्स डिपार्टमेंट ने एक प्रोजेक्ट प्रायोजित (sponsored) किया जिसका नाम ARPANET (acronym for Advanced Research Projects Agency NETwork) था। इस परियोजना का लक्ष्य दुनिया भर के सरे कम्प्यूटर्स को कनेक्ट करना था। शीघ्र इंजीनियर, वैज्ञानिक, छात्र और शोधकर्ता इसका उपयोग करने लगे।इंटरनेट के जरिये लोग एक दूसरे को हज़ारो, लाखो किलोमीटर की दूरी तक संदेश भेजने लगे।

1980’s में अन्य संघीय (federal) एजेंसी, National Science Foundation ने High-Capicity Network जिसे NSFnet कहा गया जोकि ARPANET से भी जायदा सक्षम था।

NSFnet ने अपने नेटवर्क पर केवल शैक्षिक (Academic) शोध की अनुमति दी है और उस पर किसी भी प्रकार के निजी व्यवसाय की नहीं। इसलिए कई निजी कंपनियों ने अपने नेटवर्क बनाए, जो बाद में ARPANET और NSFnet  को आपस में जोड़ कर बना ।

आज केतकनीक के दौर में का काफी जायदा इस्तेमाल होने लगा है। दुनिया भर में करोड़ो,अरबो लोग इसका लाभ ले रहे है।

इंटरनेट का उपयोग (Use Of Internet)

  1. इंटरनेट के विभिन्न छेत्रो में अनेको उपयोग है , उनमे कुछ है;
  2.  संचार की मामलो में इंटरनेट का प्रयोग ईमेल भेजने और प्राप्त करने में होता है ।
  3. नौकरी (Job) की सुचना प्राप्त करने में सहायक होती है ।
  4. Internet के माधयम से आप किसी भी पुस्तको को अशनि से पढ़ सकते है ।
  5. इंटरनेट की हेल्प से आप Online banking और Money Transfer कर सकते है ।
  6. Online Shopping करने में भी इंटरनेट का मथाबपूर्ण योगदान है ।
  7. इंटरनेट की मदत से आप बस,हवाई जहाज, तथा रेल के Ticket Book कर सकते है ।
  8. व्यवसाय इंटरनेट का उपयोग जटिल डेटाबेस तक पहुँच प्रदान करने के लिए करता है, जैसे वित्तीय डेटाबेस।
  9. व्यक्ति संचार, मनोरंजन, जानकारी खोजने और उत्पादों को खरीदने और बेचने आदि के लिए इंटरनेट का उपयोग करते हैं।
  10. मीडिया और मनोरंजन कंपनियां प्रसारण उद्देश्य के लिए इंटरनेट का उपयोग करती हैं।

इंटरनेट की हेल्प से आप और भी बहुत कुछ कर सकते है ।

इंटरनेट कैसे काम करता है?

इंटरनेट पैकेट प्रोटोकॉल (IP), ट्रांसपोर्ट कंट्रोल प्रोटोकॉल (TCP) और अन्य प्रोटोकॉल के अनुसार इंटरनेट एक पैकेट राउटिंग नेटवर्क के माध्यम से काम करता है।

इंटरनेट में, अधिकांश कंप्यूटर इंटरनेट से सीधे जुड़े नहीं होते हैं। इसके बजाय वे छोटे नेटवर्क से जुड़े होते हैं, जो बदले में गेटवे से इंटरनेट बैकबोन से जुड़े होते हैं।

अथवा

इंटरनेट से जुड़े कंप्यूटर क्लाइंट और सर्वेरो का इस्तेमाल कर दुनिया भर में एक दूसरे को डाटा ट्रांसफर करता हैं वह कंप्यूटर जो किसी नेटवर्क के स्रोत से प्रोग्राम और डाटा को वेबस्थित करता है और एक केंद्रीय स्टोरेज एरिया उपलध करता है , सर्वर कहलाता है

वह कंप्यूटर जो इस स्टोरेज एरिया तक एक्सचेंज कर प्रोग्राम या डाटा लेना चाहता है क्लाइंट कहलाता है इंटरनेट पर एक क्लाइंट जो कई सारे सर्वेरो के फाइलोंऔर प्रोग्राम तक एक्सचेंज कर सकता हैं होस्ट कंप्यूटर कहलाता है आपका कंप्यूटर होस्ट कंप्यूटर ही है

इंटरनेट एक पैकेट आधारित नेटवर्क है इसका अर्थ यह है कि जो भी डाटा आप ट्रांसफर करत हैं वह पैकेट में बट जाता है तो अब क्या होता है जब आप इंटरनेट के विभिन्न नेटवर्क को के बीच डाटा ट्रांसफर करते हैं नेटवर्क विशेष कंप्यूटरों से जुड़े होते हैंजिन्हे राउटर कहते कहते हैं

एक राउटर पहले यह चेक करता है कि आपके पैकेट को कहां जाना है फिर वह यह तय करता है कि किस दिशा में इसे भेजा जाए यह संभव नहीं है कि प्रत्येक राउटर अन्य दूसरे राउटर से जुड़ा हुआ हो वे सिर्फ आपके डेटा की दिशा तय करते हैं राउटर को यह बताने के लिए कि डाटा को कहां जाना है एक तरह का Address होता है जो I.P Address होता है I.P (Internet Protocol) के साथ ट्रांसफर होने वाले डाटा पैकेट में बटा होता है यह एक अन्य प्रोटोकॉल द्वारा हैंडल किया जाता है जिसे T.C.P (Transmission Control Protocol) कहा जाता है।

बाद में यह खोजा गया कि आईपीएस जोकि वास्तव में सिर्फ नंबर होता है जिसे कंप्यूटर तो आसानी से हैंडल कर सकता है लेकिन मनुष्य होने के नाते हमारे लिए यह संभव नहीं होता के हम इसे याद रख पाए । इससे निपटने के लिए 1984 में डोमेन नेम अबहिस्कृत में आया डोमेन नेम इंटरनेट पर किसी व्यक्ति के अकाउंट की लोकेशन होता है।

I.P Address क्या है?

पोस्टल लेटर की तरह ही इंटरनेट में भी डाटा को किसी खास जगह पर भेजने के लिए एड्रेस का इस्तेमाल किया जाता है I.P एड्रेस इंटरनेट प्रोटोकोल स्टैंडर्ड की मदद से नेटवर्क में एक कंप्यूटर द्वारा दूसरे कंप्यूटर को पहचानने और उसके कम्युनिकेट करने के लिए इस्तेमाल होने वाला एक यूनिट एड्रेस है।

I.P Address नंबरों के 4 समूह से युक्त होते हैं ये समूह आपस में एक दूसरे से एक (.) डॉट द्वारा अलग रहते हैं नंबर 0 से लेकर 255 तक हो सकते हैं उदाहरण के लिए 124.25.35.10 एक I.P Address है आमतौर पर आईपी एड्रेस का पहला हिस्सा नेटवर्क को पहचानता है जबकि अंतिम कंप्यूटर विशेष को।

आइए हम देखें कि इंटरनेट कैसे कार्य करता है।

  • स्रोत कंप्यूटर में, दूसरे कंप्यूटर पर भेजे जाने वाले संदेश या फ़ाइल / दस्तावेज़ को सबसे पहले पैकट्स नामक बहुत छोटे भागों में विभाजित किया जाता है। एक पैकेट में आमतौर पर 1500 अक्षर होते हैं।
  • प्रत्येक पैकेट को क्रम संख्या 1,2,3 दिया जाता है …
  • सभी पैकेट को गंतव्य (destination) कंप्यूटर के पते पर भेजा जाता है।
  • गंतव्य कंप्यूटर पैकेट को यादृच्छिक तरीके से प्राप्त करता है।
  • पैकेट को उनकी संख्या के क्रम में फिर से जोड़ा जाता है और मूल फ़ाइल / संदेश प्राप्त किया जाता है।

इंटरनेट को कौन संचालित करता है?

इंटरनेट किसी विशेष निकाय द्वारा शासित नहीं है। यह कई स्वयंसेवी संगठनों द्वारा समन्वित है। विभिन्न प्रकार के संगठन नीचे सूचीबद्ध के अनुसार विभिन्न प्रकार की गतिविधियों के लिए जिम्मेदार हैं:

  1. InterNIC इंटरनेट समुदाय को पंजीकरण सेवाएं प्रदान करने के लिए जिम्मेदार है।
  2. The Internet Architecture (IAB) मानकों को स्वीकृत करने और संसाधनों को आवंटित करने के लिए जिम्मेदार है।
  3. The Internet Engineering Task Force (IETF) इंटरनेट के संचालन और तकनीकी समस्याओं पर चर्चा और जांच के लिए जिम्मेदार है।

इंटरनेट का फायदा और नुकसान

इंटरनेट का फायदा (Advantage of Internet)

ऐसे तो इंटरनेट के कई सरे फायदे है। निचे मैंने कुछ फायदे के बारे में बताया है।

  • कंपनियों के लिए एक मूल्यवान संसाधन विज्ञापन और व्यापार का संचालन करने के लिए।
  • सूचना तक अधिक पहुंच अनुसंधान समय को कम करती है।
  • उपयोगी संचार लिंक।
  • प्रकाशन दस्तावेज़, इंटरनेट पर फ़ाइलें सुरक्षित रूप से।
  • आसानी से अन्य लोगों के साथ संवाद करने के लिए।

इंटरनेट का नुकसान।

इंटरनेट के फायदे है तो नुकशान भी तो चलिये कुछ नुकशान के बारे में पढ़ा जाये।

  • अधिकांश जानकारी की जाँच नहीं की जाती है और गलत या अप्रासंगिक हो सकती है।
  • इंटरनेट पर बहुत अधिक समय दूसरों के साथ आमने-सामने बातचीत की कमी और नुकसान के रूप में हो सकता है।

Conclusion:

इस आर्टिकल में मैंने Internet Kya hai से सम्बंधित साडी जानकारी दी है जैसे कि इंटरनेट क्या है,इंटरनेट काम कैसे करता है । इंटरनेट का इतिहास,इंटरनेट का उपयोग,इंटरनेट कैसे काम करता है,I.P Address क्या है,इंटरनेट का फायदा और नुकसान जैसे महत्व जानकारिया।

उममीत करता हु कि “इंटरनेट क्या है ” आपको अच्छे से समझ आ गया होगा। अगर आपको किसे पॉइंट्स में प्रॉब्लम हो या फिर ऐसा कोई वाक्य समझ नहीं आई हो तो कृपया निचे कमेंट करे या फिर हमसे संपर्क करे ताकि हम आपकी सहायता कर सके और आप भी इंटरनेट कि बारे में जान सके।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments